बॉब क्रिस्प जन्मतिथि: FC क्रिकेट में 2 बार 4 गेंदों पर 4 विकेट लेने वाले इकलौते गेंदबाज

बॉब क्रिस्प (Bob Crisp) का जन्म बंगाल के कलकत्ता (ब्रिटिश भारत) में 28 मई 1911 को हुआ था। उन्होंने क्रिकेट खेलने के बाद द्वितीय विश्व युद्ध मे तृतीय रॉयल टैंक रेजीमेंट में सेवाएं भी दी तथा पत्रकारिता एवं लेखन के क्षेत्र में हाथ आजमाया। 82 वर्ष की उम्र में 3 मार्च 1996 को इंग्लैंड के कॉलचेस्टर में उनकी मृत्यु हुई थी।

बॉब क्रिस्प (Bob Crisp) का अन्तर्राष्ट्रीय करियर:

उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ 15 जून 1935 को दक्षिण अफ्रीका की ओर से टेस्ट डेब्यू किया था। अपने छोटे से टेस्ट करियर में उन्हें मात्र 9 मैच खेलने का मौका मिला। बॉब ने अपना आखिरी टेस्ट 28 फरवरी 1936 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला था।

टेस्ट क्रिकेट में प्रदर्शन:

दाएं हाथ के तेज गेंदबाज बॉब क्रिस्प (Bob Crisp) ने 9 टेस्ट मैचों में 37.35 की औसत से 20 विकेट चटकाए। इस दौरान उनका सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी प्रदर्शन 5/99 रहा। बल्लेबाजी करते हुए उन्होंने अपने टेस्ट करियर में 10.25 की औसत से 123 रन भी बनाए।

फर्स्ट क्लास क्रिकेट में अद्भुत कारनामा:

बॉब क्रिस्प (Bob Crisp) ने 1929 में रोडेशिया की ओर से फर्स्ट क्लास क्रिकेट में डेब्यू किया था। इसके बाद वे 1931 से 1936 तक वेस्टर्न प्रॉविंस का हिस्सा रहे। साल 1938 में उन्होंने वॉर्विस्टरशायर की ओर से कॉउंटी क्रिकेट भी खेला। वे फर्स्ट क्लास क्रिकेट में दो बार 4 लगातार गेंदो पर 4 विकेट चटकाने वाले इकलौते गेंदबाज हैं।

हालांकि अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट में लसिथ मलिंगा दो बार 4 गेंदों पर 4 विकेट लेने का कारनामा कर चुके हैं। उन्होंने वनडे फॉर्मेट में साल 2007 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ और टी20 फॉर्मेट में 2019 में न्यूजीलैंड के खिलाफ यह कारनामा किया है।

बॉब क्रिस्प (Bob Crisp) ने 62 फर्स्ट क्लास मैचों में 19.88 की औसत से 276 विकेट चटकाए हैं। इस दौरान उन्होंने 21 पारियों में 5 या उससे अधिक विकेट चटकाए हैं। उनका सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी प्रदर्शन 9/64 का रहा है। क्रिस्प ने अपने फर्स्ट क्लास करियर में बल्लेबाजी करते हुए 888 रन बनाए हैं।

द्वितीय विश्व युद्ध के समय में और बाद में उनका करियर:

क्रिकेट से दूर होने के बाद बॉब क्रिस्प ने द्वितीय विश्व युद्ध में तृतीय रॉयल टैंक रेजीमेंट में सेवा भी दी। उन्होंने अपने अनुभव को साझा करने के लिए लेखन कार्य भी शुरू किया। उन्होंने 1559 में ‘The Gods Were Neutral: A British Tank Officer’s Very Personal Account of the Ill-Fated Greek Campaign in WWII‘ और ‘Brazen Chariots: An Account of Tank Warfare in the Western Desert, November – December 1941‘ तथा 1964 में उन्होंने ‘The Outlanders: The Men Who Made Johannesburgलिखी।

Category: On This Day Tags:

About नीतिश कुमार मिश्र

नीतिश कुमार मिश्र (Neetish Kumar Mishra) CRICKHABARI.COM के फाउंडर हैं। वे साल 2016 से खेल पत्रकारिता की दुनिया में सक्रिय हैं और अब तक एक हजार से अधिक खबरें लिख चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *