गौतम गंभीर ने 12 साल बाद बताया सच, क्या था वॉटसन को कोहनी मारने का मामला ?

By | 16/06/2020

2008 में दिल्ली का फिरोजशाह कोटला मैदान और भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला जा रहा था सीरीज का तीसरा टेस्ट मैच। इस मैच की एक पारी के दौरान क्रीज पर बल्लेबाज थे गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) और गेंद थी ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी शेन वॉटसन (Shane Watson) के हाथों में। वो दौर था गंभीर के उठने का इस मैच में भी उन्होंने 206 और 36 रनों की पारी खेली थी। लेकिन जब वे बल्लेबाजी कर रहे थे तब ऐसा कुछ हुआ कि गंभीर ने नॉन-स्ट्राइकिंग एंड से विकेट की ओर भागते हुए वॉटसन को कोहनी मार दी थी। वीडियो को कई लोगों ने देखने के बाद यही बोला था कि गंभीर ने जानबूझकर ये किया था। लेकिन गंभीर ने अब 12 साल बाद एक बार फिर इस मामले पर सफाई दी है।

आपको बता दें इस घटना के बाद गंभीर को आइसीसी की आचार संहिता का दोषी पाया गया था और फिर उन पर एक मैच का बैन लगाया गया था। वहीं वॉटसन को भी इस मामले में दोषी पाया गया था और उन्हें मैच फीस का दस फीसदी जुर्माने के तौर पर देना पड़ा था।

“मैंने ये जानकर नहीं किया था…”

एक निजी चैनल के एक शो पर जब गंभीर से इस मामले के बारे में सवाल पूछा गया तो पूर्व भारतीय खिलाड़ी ने इस सवाल का जवाब देते हुए कहा कि, शेन वॉटसन के साथ मैंने ये जानकर नहीं किया था। इस मैच के बाद मुझे एक मैच के लिए बैन कर दिया गया था। कई लोगों ने कहा कि मैंने उन्हें कोहनी जानबूझकर मारी, लेकिन ऐसा मैंने किसी प्रयोजन से नहीं किया था।”

उन्होंने बताया कि,”जब मैं इस मामले में सुनवाई के लिए गया तो गैरी कर्स्टन ने मुझे कहा कि इसे स्वीकार कर लो क्योंकि ये क्रिस ब्रॉड है तुम्हें सहानुभूति मिलेगी और वो तुम्हे बैन नहीं करेगा। जब मैं गैरी के साथ अंदर गया तो क्रिस ने मुझे पूछा कि आप अपनी गलती स्वीकार करते हैं तो मैंने कहा कि हां, फिर उन्होंने मुझे कहा कि आप बैन किए जाते हो। तो सहानुभूति की जगह मुझे एक थप्पड़ मिला।”

Hindi Cricket News, Dream 11 Prediction और मैच रिजल्ट्स की खबरों के लिए CRICKHABARI के टेलीग्राम चैनल को ज्वॉइन करें। हमें फेसबुक, ट्विटर, Pinterest, और इंस्टाग्राम पर फॉलो करें और हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *