आज के दिन ही भारत ने खेला था अपना पहला टेस्ट मैच

By | 25/06/2020

भारतीय क्रिकेट के इतिहास में आज का दिन बहुत ही ऐतिहासिक रहा है,जहां एक ओर भारत 37 वर्ष पूर्व वेस्टइंडीज को हराकर विश्व चैंपियन बनी थी, वहीं दूसरी ओर भारत ने 88 साल पहले 1932 में आज के दिन ही इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया था।

आईसीसी (ICC)द्वारा टेस्ट क्रिकेट टीम की मान्यता मिलने के बाद भारत ने पहली बार जून, 1932 में अपना पहला टेस्ट मैच इंग्लैंड से खेला था। भारतीय टीम “आल इंडिया” टीम के नाम से इंग्लैंड के दौरे पर गई थी और लॉर्ड्स (Lords) के मैदान पर पहला तीन दिवसीय टेस्ट मैच खेला था। लेकिन भारतीय टीम को अपने पहले टेस्ट मैच इंग्लैंड से 158 रनों से हार खानी पड़ी थी।

इंग्लैंड के खिलाफ खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच में भारतीय टीम के कप्तान पोरबंदर के महाराज और सीके नायडू (Maharaja of Porbandar and CK Nayudu) थे। तथा इंग्लैंड टीम के कप्तान  डीआर जार्डाइन (DK Jordine) थे। इंग्लैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। इंग्लैंड ने पहली पारी में 259 रन बनाए। लेकिन भारतीय टीम इंग्लैंड के 259 रनों के लक्ष्य का पीछा करती हुई 189 रन पर आल आउट हो गई। 

इंग्लैंड ने दूसरी पारी में आठ विकेट खोकर 275 रन बनाए और इस तरह भारत को जीत के लिए 346 रनों का लक्ष्य मिला। लेकिन भारतीय बल्लेबाजी एक बार फिर इंग्लैंड के तेज गेंदबाजों को खेलने में असमर्थ रहीं,और पूरी टीम 187 रनों पर ढेर हो गई।जार्डिन(DR Jardine)ने उस मैच की पहली पारी में 79,एलईजी एमीस(L.E.G Emis)ने 65,और डब्ल्यूआर हैमंड(WR Hammond) ने 35 रन बनाए। बनाये थे। भारत की पहली पारी में सीके नायडू(Ck Nayudu) ने 40 रन, नाऊमल जाऊमल(Naomal Jeoomal)ने 33 रन, ए वजीर अली(A Wazir Ali) ने 31 रन बनाए थे।

भारत की तरफ से मोहम्मद निसार (Mohammad Nissar) ने पहली पारी में पांच विकेट लिए, अमर सिंह(Amar Singh) ने और सीके नायडू(CK Nayudu)ने भी दो-दो विकेट अपने खाते में डाले थे।

इंग्लैंड की दूसरी पारी में कप्तान जार्डाइन(Dर Jardine)ने 85 रन, ई पाइंटर(E.Pointer) ने 54 रन और आरडब्ल्यूवी रॉबिंस(R.W.C Robins) ने 30 रन बनाए। दूसरी पारी में भारतीय गेंदबाजी ने मोहम्मद निसार ने एक विकेट, अमर सिंह ने दो विकेट, मोहम्मद जहांगीर खान(Mohammad Jahangir Khan) ने चार विकेट लिया। नाऊमल जाऊमल(Naomal Jeoomal) ने एक विकेट लिया। दूसरी पारी में सबसे अधिक 51 रन अमर सिंह(Amar Singh) ने बनाया। एस वजीर अली ने 39 रन, लाल सिंह ने 29 रन और नाऊमल जाऊमल(Naomal Jeoomal) ने 25 रन बनाए। कप्तान सीके नायडू(CK Mayusi) केवल 10 रन बनाए।

परिणाम के लिहाज से भारत का पहला मैच भले ही निराशाजनक रहा हो लेकिन उस मैच को गंवाने के बावजूद भी भारत ने इंग्लैंड को कड़ी टक्कर दी थी। 

वहीं, दूसरी तरफ दिग्गज ऑलराउंडर कपिल देव(Kapil Dev) की कप्तानी में भारतीय टीम पहली बार जब वर्ल्ड कप फाइनल खेलने के लिए उतरी तो किसी को भी उम्मीद नहीं थी कि वह चैंपियन बन पाएगी। भारतीय टीम जब 183 रन पर आउट हो गई तो यह विश्वास और पक्का हो गया लेकिन भारत के मध्यम गति के गेंदबाजों के सामने वेस्टइंडीज की टीम 140 रन पर आउट हो गई।और इस तरह भारतीय वेस्टइंडीज को हराकर पहली बार विश्व चैंपियन का खिताब जीता।

यह भी पढ़े:जैविक रूप से सुरक्षित वातावरण में ट्रेनिंग करना अजीब: मार्क वुड

Hindi Cricket News, Dream 11 Prediction और मैच रिजल्ट्स की खबरों के लिए CRICKHABARI के टेलीग्राम चैनल को ज्वॉइन करें। हमें फेसबुक, ट्विटर, Pinterest, और इंस्टाग्राम पर फॉलो करें और हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *