इस खिलाड़ी के नाम दर्ज है रणजी ट्रॉफी, दिलीप ट्रॉफी और ईरानी ट्रॉफी में सबसे ज्यादा रन

By | 01/06/2020

कुछ खिलाड़ी कुछ बड़ा तो कर जाते हैं पर नजरों में नहीं आ पाते। ऐसे ही खिलाड़ी हैं – वसीम जाफर। घरेलू क्रिकेट में अपने नाम कई रिकॉर्ड लेने वाले वसीम जाफर ने मार्च 2020 में क्रिकेट की दुनिया को अलविदा कह दिया था। 40 साल के वसीम ने अपना आखिरी टेस्ट मैच अप्रैल 2008 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेला।

रणजी ट्रॉफी में अपने प्रदर्शन को लेकर वसीम सुर्खियों में रहे और यही कारण है कि घरेलू क्रिकेट में इन इन्हें सलामी बल्लेबाज के तौर पर जाना जाता है।12038 रन बनाने के बाद रणजी ट्रॉफी में वसीम जाफर ने पहले स्थान पर कब्जा कर लिया था और इस रिकॉर्ड को अभी तक कोई खिलाड़ी नहीं तोड़ पाया है।इतना ही नहीं, रणजी ट्रॉफी में 150 मैच खेलने वाले भी वह अपनी तरह के पहले बल्लेबाज हैं।

वर्तमान में वसीम जाफर आईपीएल की टीम किंग्स इलेवन पंजाब के बल्लेबाजी कोच हैं भारतीय टीम के लिए वसीम ने सन 2000 में डेब्यू किया था और 31 टेस्ट मैचों में 1944 रन बनाए थे हालांकि घरेलू क्रिकेट में वह 1996-97 से ही सक्रिय हैं।

शतकों की बात करें तो वसीम ने खेले हुए 138 टेस्ट मैचों में 5 शतक और 11 अर्धशतक अपने नाम किए हैं ।फर्स्ट क्लास क्रिकेट में कुल 260 मैच खेलने के साथ 57 शतक और 91 अर्धशतक का रिकॉर्ड भी इनके नाम है। सिर्फ रणजी ट्रॉफी में ही 40 शतक का रिकॉर्ड भी वसीम में अपने नाम कर रखा है जो सबसे ज्यादा रन के साथ सटीक बैठता है

दिलीप ट्रॉफी में भी अपना जलवा वसीम दिखा चुके हैं और यहां भी इन्होंने सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज का खिताब अपने नाम कर रखा है। रणजी ट्रॉफी और दिलीप ट्रॉफी के बाद ईरानी ट्रॉफी भी इन से छूटी नहीं है और यहां भी सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज वसीम ही हैं।

घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन करने वाले वसीम को भारत के लिए खेलने का मौका बहुत कम मिला लेकिन उनका प्रदर्शन घरेलू क्रिकेट में इतना जबरदस्त रहा है कि उनके फैंस की संख्या काफी ज्यादा है। रिटायरमेंट के बाद भी वसीम क्रिकेट से पूरी तरह दूर नहीं हुए हैं और एक क्रिकेटर तथा बल्लेबाजी कोच के रूप में अभी भी जाने जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *