20 जून को भारत के लिए पांच खिलाड़ियों ने किया टेस्ट डेब्यू, तीन ने किया विश्व पर राज !

By | 20/06/2020

आज तारीख है 20 जून…आज का दिन भारतीय क्रिकेट इतिहास के लिए बहुत खास है। आपको बता दें आज के ही दिन अलग-अलग सालों में पांच भारतीय क्रिकेटर्स ने अपना टेस्ट डेब्यू किया था। वहीं इन पांच में तीन खिलाड़ियों ने आगे चलकर टीम की कप्तानी भी संभाली। जबकि इनमें से एक खिलाड़ी ने राष्ट्रीय टीम नहीं लेकिन अपने राज्य की टीम का भी नेतृत्व किया। आइए एक- एक करके जानते हैं कौन हैं वो पांच भारती खिलाड़ी।

सौरव गांगुली और राहुल द्रविड़ (20 जून, 1996)

भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे सफल कप्तानों में से एक रहे सौरव गांगुली ने 20 जून 1996 को अपने साथी खिलाड़ी राहुल द्रविड़ के साथ इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट डेब्यू किया था। लंदन के ऐतिहासिक मैदान लॉर्ड्स पर गांगुली और द्रविड़ ने एकसाथ डेब्यू किया था। जहां सौरव गांगुली ने अपने पहले टेस्ट में ही टॉप ऑर्डर में बल्लेबाजी करते हुए शतक जड़ा था, जबकि राहुल द्रविड़ शतक से चूक गए थे। आपको बता दें गांगुली इस पारी में 131 रन बनाकर आउट हुए थे, जबकि द्रविड़ ने 95 रनों की पारी खेली थी। फिर आगे चलकर इन दोनों खिलाड़ियों ने कितना नाम कमाया ये जगजाहिर है।

विराट कोहली, अभिनव मुकुंद और प्रवीण कुमार (20 जून 2011)

2011 में भारतीय टीम ने विश्व कप जीतकर 28 साल का सूखा खत्म किया था। वहीं इस साल भारत को कई होनहार युवा खिलाड़ी भी मिले थे जिनमें से एक हैं विराट कोहली, जिनका लोहा आज पूरा विश्व मानता है। 20 जून 2011 को मौजूदा भारतीय कप्तान विराट कोहली और दो अन्य खिलाड़ियों ने भारत के लिए टेस्ट क्रिकेट में डेब्यू किया था, जिनमें अभिनव मुकुंद और तेज गेंदबाज प्रवीण कुमार का नाम शामिल है। हालांकि, विराट कोहली और अभिनव मुकुंद इस मैच में फ्लॉप रहे थे, लेकिन प्रवीण कुमार ने दोनों पारियों में टीम के लिए 3-3 विकेट चटकाकर अपनी टीम को जीत दिलाने में सफलता हासिल की थी। लेकिन ज्यादा दिनों तक मुकुंद और प्रवीण कुमार टीम के अंदर टिक नहीं पाए और विराट कोहली ने विश्व पर राज करना शुरू कर दिया।

गौरतलब है जिन पांच खिलाड़ियों के नाम की हमने आपसे चर्चा की उनमें से तीन ऐसे भी हैं जिन्होंने आगे चलकर भारतीय टीम की कप्तानी भी संभाली। सौरव गांगुली, राहुल द्रविड़ और विराट कोहली उनमें से तीन ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने भारतीय क्रिकेट पर राज किया या कर रहे हैं। वहीं प्रवीण कुमार भारतीय टीम में ज्यादा लंबे समय तक टिक नहीं सके उसी साल उनका करियर 6 टेस्ट खेलकर समाप्त हो गया था। वे लगातार अपनी फिटनेस को लेकर जूझते थे। इसके अलावा अभिनव मुकुंद ने भारतीय टीम में ज्यादा दिन तक अपनी जगह नहीं बरकरार रखा लेकिन तमिलनाडु राज्य और इंडिया ए के लिए उन्होंने भी कप्तानी की थी।

Hindi Cricket News, Dream 11 Prediction और मैच रिजल्ट्स की खबरों के लिए CRICKHABARI के टेलीग्राम चैनल को ज्वॉइन करें। हमें फेसबुक, ट्विटर, Pinterest, और इंस्टाग्राम पर फॉलो करें और हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *