17 June: जब सिर्फ एक रन आउट के चलते दक्षिण अफ्रीका को खोना पड़ा था विश्व कप फाइनल का टिकेट

By | 17/06/2020

एकदिवसीय विश्व कप के इतिहास में आज के दिन का काफी विशेष महत्व है। दरअसल आज के दिन वनडे वर्ल्ड कप का सबसे रोमांचक मुकाबला खेला गया था। आज ही दिन यानी 17 जून 1999 को विश्व कप के दूसरे सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका की टीमें आमने सामने थी।

चूंकि मैच सेमीफाइनल का था, तो दोनों ही टीमों पर दबाव साफतौर पर देखने को मिल रहा था। मुकाबले का आगाज दक्षिण अफ्रीका के टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने के साथ हुआ। टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला अफ्रीकी कप्तान हंसी क्रोने (Hansie Cronje) के लिए बढ़िया साबित हुआ।

दक्षिण अफ्रीका के गेंदबाजो ने शानदार गेंदबाजी करते हुए कंगारू टीम को मात्र 213 के स्कोर पर समेट दिया। ऑस्ट्रेलिया के लिए माइकल बेवन (Michael Bevan) ने सर्वाधिक (65) और कप्तान स्टीव वॉ (Steve Waugh) ने (56) रनों का योगदान दिया। साउथ अफ्रीका के लिए शॉन पोलक (Shaun Pollock) के खाते में सबसे ज्यादा पांच सफलताएं आई, जबकि एलन डोनाल्ड (Allan Donald) 32 रन देकर चार विकेट हासिल करने में सफल रहे।

दक्षिण अफ्रीका को पहली बार फाइनल में जगह बनाने के लिए 50 ओवर के अंदर 214 रन बनाने थे। स्टार खिलाड़ियों से सजी अफ्रीकी टीम के लिए यह काम आसान माना जा रहा था, लेकिन अफ्रीकी पारी के दौरान जो हुआ उससे देख सब दंग रह गये।

यह भी पढ़े: रहाणे ने फैंस को दिया ‘Fill in The Blanks’ चैलेंज, धवन ने रोहित शर्मा को किया ट्रोल

लक्ष्य का पीछा करते हुए दक्षिण अफ्रीका की शुरुआत काफी सही रही और 48 के स्कोर पर टीम का पहला विकेट हर्शल गिब्स (Herschelle Gibbs) (30) के रूप में गिरा। गिब्स के आउट होने के अगले 13 रनों के भीतर अफ्रीकी टीम के कुल चार खिलाड़ी वापस पवेलियन लौट गये। पांचवें विकेट के लिए 84 रन जोड़ जोंटी रोड्स (Jonty Rhodes) और जैक कैलिस (Jacques Kallis) ने वापस टीम को मैच में ला खड़ा किया।

इस साझेदारी को तोड़ने का काम पॉल रिफ्ल ने किया उन्होंने जोंटी रोड्स (43) को आउट कर ऑस्ट्रेलिया के लिए कैच में जान फूंक दी। देखते ही देखते दक्षिण अफ्रीका का स्कोर 198/9 हो गया। अब दक्षिण अफ्रीका को अंतिम आठ गेंदों में 16 और ऑस्ट्रेलिया टीम को सिर्फ एक विकेट की दरकार थी। अफ्रीकी खेमे की पूरी नजर सिर्फ शानदार फॉर्म में चल रहे लांस क्लूसनर (Lance Klusener) पर टिकी हुई थी।

क्लूसनर ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी कर मैच में रोमांच ला दिया और अफ्रीकी टीम को अंतिम तीन गेंदों में केवल एक रन चाहिए था। तभी 49.4 ओवर में एलन डोनाल्ड के रन आउट होने के साथ ही दक्षिण अफ्रीकी टीम के फाइनल खेलने के सपने पर अचानक से पानी फिर गया। डोनाल्ड के रन आउट होने के साथ ही मुकाबला टाई हो गया, लेकिन सुपर आठ के दौरान क्योंकि कंगारू टीम ने दक्षिण अफ्रीका को हराया था इसलिए वह फाइनल में जगह बनाने में सफल रहे और अंत में टूर्नामेंट जीत इतिहास भी रचा।

ऑस्ट्रेलिया के लिए शेन वार्न (Shane Warne) ने 29 रन खर्च करते हुए सबसे ज्यादा चार विकेट अपने नाम किये और ‘प्लेयर ऑफ द मैच’ का अवार्ड भी जीता।

Hindi Cricket News, Dream 11 Prediction और मैच रिजल्ट्स की खबरों के लिए CRICKHABARI के टेलीग्राम चैनल को ज्वॉइन करें। हमें फेसबुक, ट्विटर, Pinterest, और इंस्टाग्राम पर फॉलो करें और हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *