बांग्लादेश के ऑलराउंडर शाकिब अल हसन पर लगा 2 साल का बैन, जानिए क्यों मिली यह सजा

By | 29/10/2019

बांग्लादेश के ऑलराउंडर शाकिब अल हसन पर मैच फिक्सिंग का ऑफर मिलने की बात छिपाने पर आईसीसी ने दो साल का प्रतिबंध लगा दिया है। ये मामला साल 2018 का है। शाकिब पर लगाए गए प्रतिबंध की एक साल की अवधि निलंबित रखी गई है, मतलब वह 29 अक्टूबर 2020 से दोबारा अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी कर सकेंगे।

शाकिब अल हसन अगले साल इंडियन प्रीमियर लीग और ऑस्ट्रेलिया में 18 अक्टूबर से 15 नवंबर 2020 तक होने वाले टी20 विश्व कप में नहीं खेल सकेंगे। खुद पर दो साल का प्रतिबंध लगने के बाद शाकिब ने कहा है कि वह इस खेल से बेहद प्यार करते हैं और इस प्रतिबंध से बेहद दुखी हैं।

इस कारण शाकिब पर लगा यह प्रतिबंध:

बीसीबी ने शर्तों का उल्लंघन करने के मामले में शाकिब को कारण बताओ नोटिस दिया था। शाकिब ने खिलाड़ियों की हड़ताल की अगुवाई की थी। इसके अलावा शाकिब पर बुकी द्वारा उनसे सम्पर्क साधने की जानकारी भी छुपाने का आरोप है। शाकिब हाल ही में एक एंबेसेडर के रूप में ग्रामीणफोन कंपनी से जुड़े थे और बीसीबी के खिलाड़ियों के साथ समझौतों के अनुसार, राष्ट्रीय अनुबंध के तहत आने वाले क्रिकेटर टेलीकॉम कंपनी से नहीं जुड़ सकते

इस प्रतिबंध के बाद शाकिब अल हसन ने कहा, “निश्चित रूप से मैं इस खेल को बहुत प्यार करता हूं और खुद पर दो साल का प्रतिबंध लगने से बेहद दुखी हूं। मगर मैं मैच फिक्सिंग के ऑफर की जानकारी आईसीसी को न देने के लिए खुद पर लगे आरोपों को स्वीकार करता हूं। आईसीसी की एंटी करप्‍शन यूनिट भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ने के लिए खिलाड़ियों द्वारा अहम भूमिका निभाए जाने का भरोसा रखती है, लेकिन मैं इस मामले में अपना कर्तव्य निभाने में असफल रहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *