जानिए उन 5 दिग्गज खिलाड़ियों को जिन्होंने पर्याप्त टेस्ट क्रिकेट नहीं खेला!

By | 16/07/2020

वनडे और टी20 मैचों का भले ही प्रशंसकों के बीच क्रेज हो लेकिन असली मैच तो टेस्ट क्रिकेट में ही देखने को मिलता है। टेस्ट प्रारूप क्रिकेट का सबसे चुनौतीपूर्ण रूप है। क्रिकेट के इस प्रारुप में एकाग्रता और फिटनेस की अत्यधिक आवश्यकता होती है। हालांकि इसकी धीमी गति वाली प्रकृति और चमक की सापेक्ष कमी के कारण इसे खत्म करने की धमकी तबतक मिलती रही जब तक आईसीसी (ICC) द्वारा विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप शुरु नहीं किया गया। खैर ये कहना गलत न होगा कि टेस्ट क्रिकेट से अधिक चुनौतीपूर्ण कुछ भी नहीं है। यह ऐसा फॉर्मेट है जिससे आपको जिंदगी की जटिलताओं को समझने में मदद मिलती है। चौके-छक्कों के खेल को क्रिकेट के दिग्गज कम जरुरी मानते हैं उनके लिए क्लासिक क्रिकेट मायने रखता है और यह सिर्फ टेस्ट मैच में ही देखने को मिलता है।

पिछले कुछ वर्षों में, हमने कई ऐसे खिलाड़ियों को देका है जो सीमित ओवरों के प्रारूप में कमाल का खेल दिखाते हैं लेकिन लंबे प्रारूप में निराश करते है। तकनीकी समस्याएं, निरंतरता की कमी, और परिस्थितियों के लिए सीमित अनुकूलनशीलता कुछ ऐसे कारण हैं जो खिलाड़ियों के टेस्ट क्रिकेट में अपनी क्षमता तक नहीं पहुंचने के कारण हैं। ये खिलाड़ी छोटे फॉर्मेट में सिर्फ बल्ले को घूमाने में माहिर है लेकिन जब बात टेस्ट क्रिकेट में ठहर कर खेलने की बात आती है तो ये खिलाड़ी ताश के पत्ते की तरह ढेर हो जाते है।

इस आर्टिकल में आज हम बात करेंगे उन 5 दिग्गज क्रिकेटरों की जिन्होंने पर्याप्त टेस्ट मैच नहीं खेले हैं।

5-लांस क्लूजनर (Lance Klusener)…

लांस क्लूजनर एक पहेली थे जब वे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सक्रिय थे। बल्ले को साथ-साथ उपयोगी मध्यम-पेसरों के साथ उनकी बड़ी-बड़ी क्षमताओं के अलावा ये दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी एक शांत व्यक्तित्व थे। वनडे में अपने शानदार फिनिशर के रुप में खेलने के बाद भी लांस क्लूजनर ने मात्र 49 टेस्च मैच खेले। ईडन गार्डन्स में भारत के खिलाफ पदार्पण मैच में 8/64 का रिकॉर्ड लेने के बाद कई लोग ये उम्मीद कर रहे थे कि कि बाद में ये हरफनमौला खिलाड़ी जैक्स कैलिस जैसा बनेगा और वैसे ही गेम खेलेगा।

यह भी पढ़ें: Black Lives Matter- हाशिम आमला ने एंगिडी के साथ फोटो पोस्ट शेयर करके किया समर्थन! 

लेकिन क्लूजनर के टेस्ट करियर ने कभी उड़ान नहीं भरी और कोई बड़ा बदलाव नहीं हुआ। उन्होंने बल्ले के साथ औसतन 32.86 और गेंद के साथ केवल 80 विकेट लिए थे। सेवानिवृत्त होने के बाद से अपने सामरिक कौशल के उत्कृष्ट पढ़ने का उपयोग करते हुए वह एक कोच के रूप में कार्यरत हैं, और यहां तक ​​कि पिछले साल अफगानिस्तान राष्ट्रीय क्रिकेट टीम के कोच भी नियुक्त किए गए थे।

4-माइकल बेवन (Michael Bevan)….

हम क्लूसनर और माइकल बेवन के करियर के बीच कई समानताएं देख सकते हैं। दोनों बाएं हाथ के बल्लेबाज़ मध्यक्रम के बल्लेबाज़ और आसान गेंदबाज़ होने के साथ-साथ मैदान में इलेक्ट्रिक भी थे। दोनों एक शानदार फिनिशर भी थे। दुर्भाग्य से क्लूजनर की तरह ही बेवन भी शानदार शुरुआत के बावजूद टेस्ट क्रिकेट में असफल रहे। अपनी पहली सीरीज़ में तीन अर्धशतक के बाद, बेवन ने केवल 18 टेस्ट खेले। उन्होंने 232 वनडे में 53.58 की औसत से 6,912 रन बनाए।

बाएं हाथ के इस लेग स्पिनर ने टेस्ट में 29 विकेट भी लिए, यहां तक ​​कि एक बार 10/113 के मैच के आंकड़े भी दर्ज किए। हालाँकि, 1999 और 2003 के विश्व कप विजयी अभियान में वह आकर्षण का मुख्य केंद्र बने रहे। 2007 में खेल से रिटायर होने के बाद बेवन ने कई फ्रेंचाइजी में कोच की भी भूमिका निभाई।

3-युवराज सिंह (Yuvraj Singh)….

भारतीय ऑलराउंडर युवराज सिंह एकदिवसीय मैचों में देश के सबसे महान नंबर 4 बल्लेबाजों में से एक हैं, लेकिन इनका टेस्ट करियर भूलाए जाना वाला था। 40 खेलों में, युवराज ने 33.9 के औसत से केवल 1900 रन बनाए, जिसमें उनके नाम केवल 3 शतक थे। उनकी गेंदबाजी भी विकेट लेने वाली नहीं थी, और उन्होंने ज्यादातर भारत के लिए एक विशेषज्ञ बल्लेबाज के रूप में खेला।

कुछ तकनीकी मुद्दों के साथ अपने पूरे करियर में शानदार शुरुआत करने वाले युवराज अपने वनडे और टी20 में ताबड़तोड़ बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं। युवराज भले ही छोटे प्रारुप में कमाल का खेल केलते हों लेकिन खेल के सबसे लंबे प्रारूप पर कभी भी वह अपनी छाप नहीं बना सके। अपने वनडे करियर के विपरीत, जिसमें उन्होंने 8,701 रन बनाए और 2011 विश्व कप में मैन ऑफ द टूर्नामेंट का पुरस्कार जीता वह टेस्ट में ऐसा कमाल नहीं कर पाए।

किंग्स इलेवन पंजाब के पूर्व कप्तान का यादगार टी20 करियर था, जिसमें उन्होंने 6 छक्के जड़े थे। उन्होंने स्टुअर्ट ब्रॉड को एक ही ओवर में चुनौती देकर 6 गेंद पर 6 छक्के मारे थे, जो संयोग से टेस्ट क्रिकेट में इंग्लैंड का दूसरा सबसे ज्यादा विकेट लेने वाला गेंदबाज था।

2-शाहिद अफरीदी (Shahid Afridi)…

जिसे क्रिकेट ने कभी देखा है शाहिद अफरीदी सबसे विनाशकारी बल्लेबाजों में से एक है। युगल जो अपने सटीक पैर को तोड़ता है, और आपको लगता है कि आपके पास एक क्रिकेटर था जो टेस्ट क्रिकेट में निचले क्रम के ऑलराउंडर होने के लिए पूरी तरह से अनुकूल था। हालांकि एक युवा खिलाड़ी के रूप में उन्होंने कई वादे किए थे इसके बावजूद अफरीदी ने पाकिस्तान के लिए केवल 27 टेस्ट खेले, जिसमें 1,716 रन बनाए और 48 विकेट लिए।

पाकिस्तान के इस पूर्व कप्तान ने 2006 में अपने सीमित ओवरों के करियर पर फोकस करने के लिए टेस्ट क्रिकेट को छोड़ने का फैसला किया और हालाँकि क्रिकेट प्रेमिकाओं ने उनके फैसले पर सवाल उठाया है, लेकिन इस शख्स ने अपने फैसले पर डटे रहने का मन बना लिया था। 398 एकदिवसीय मैचों में, अफरीदी ने 8,064 रन बनाए और 395 विकेट चटकाए, जो देश के सबसे महान ऑलराउंडरों में से एक हैं। लेकिन ये तो साफ है कि अगर अफरीदी ने अपने करियर के अंत तक टेस्ट क्रिकेट खेला होता तो वह कई रिकॉर्ड तोड़ सकते थे।

1-लसीथ मलिंगा (Lasith Malinga)….

अपने खतरनाक एक्शन की वजह से बल्लेबाजों को परेशान करने वाले लसीथ मलिंगा भी इन खिलाड़ियों की लिस्ट में सबसे ऊपर हैं। अपने गेंदबाजी से अच्छो-अच्छों को धूल चटाने वाले मलिंगा का टेस्ट करियर इतना शानदार नहीं रहा। लसिथ मलिंगा के टेस्ट करियर की शुरुआत अच्छी रही क्योंकि उन्होंने एडम गिलक्रिस्ट को पदार्पण पर ही आउट कर दिया था। हालांकि, चोटों ने स्पीडस्टर के करियर को बर्बाद कर दिया, और उन्होंने अपने नाम पर 101 विकेट के साथ केवल 30 टेस्ट खेले।

टेस्ट क्रिकेट में सफल होने के लिए मलिंगा के पास सभी हथियार थे – एक शक्तिशाली यॉर्कर, एक आकर्षक आउटस्विंगर और एक आश्चर्यजनक बाउंसर। लेकिन घुटने की समस्या ने उन्हें सालों तक परेशान किया और अंत में उन्होंने फैसला किया कि उनका शरीर टेस्ट का बोझ नहीं उठा सकता और 2011 तक खुद को रंगीन कपड़ों तक सीमित रखा।

चामिंडा वास और मुथैया मुरलीधरन की तरह ही हम मलिंगा को भी सफेद जर्सी में और ज्यादा दिनों तक खेलते देख सकते थे लेकिन दुर्भाग्यवश ऐसा हो न सका।

Hindi Cricket News, Dream 11 Prediction और मैच रिजल्ट्स की खबरों के लिए CRICKHABARI के टेलीग्रामचैनल को ज्वॉइन करें। हमें फेसबुक, ट्विटर, Pinterest, और इंस्टाग्राम पर फॉलो करें और हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *