चेन्नई सुपर किंग्स के आधिकारिक मोची भास्करन की इरफान पठान ने की मदद

By | 15/06/2020

कोरोना वायरस (COVID-19) के चलते भारत में लोगों के आर्थिक हालात काफी खराब हैं। जहां उच्च और मध्यम वर्ग अपनी जिंदगी इस लॉकडाउन में आराम से जी रहा है तो वहीं निम्न वर्ग अपनी आजीविका चलाने के लिए परेशान हैं। गरीब और मजदूर तबके के पास न तो पैसे हैं और न ही पैसे कमाने के लिए काम। इसी कोरोना वायरस में आर्थिक तंगी की मार आर० भास्करन (R. Bhashkaran) पर भी पड़ी है, जो चेन्नई सुपरकिंग्स (CSK) के लिए आधिकारिक मोची हैं। भास्करन (Bhaskaran) ने अपनी आर्थिक तंगी की कहानी साझा की थी जिसके बाद पूर्व भारतीय क्रिकेटर इरफान पठान (Irfan Pathan) ने उनकी मदद के लिए अपना हाथ बढ़ाया।

कभी सीएसके के लिए करते थे काम अब आजीविका ही नहीं…

भास्करन साल 1993 के बाद से चेन्नई में जितने भी अंतरराष्ट्रीय मैच हुए, शायद उन सभी के आखों-देखा गवाह रहे। पिछले 12 साल से वह चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) के लिए आधिकारिक मोची रहे हैं। वह चिदंबरम स्टेडियम के बाहर वल्लाजाह रोड पर फुटपाथ पर बैठकर काम करते हैं। भास्करन की कहानी एक क्रिकेट मैग्जीन में प्रकाशित हुई। इसमें ये बताया गया कि किस तरह वह क्रिकेट के फैन हैं और चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) के लिए मोची का काम करते थे। मैच के दिनों में वह खिलाड़ियों और मैच अधिकारियों के एरिया के बाहर एक छोटे से कमरे में बैठते हैं और आजीविका के लिए अच्छी कमाई करते थए।

यह भी पढ़ें:  धोनी की तुलना में कोहली के पास है नंबर 3 पर बल्लेबाजी करने की बेहतर तकनीक: इरफान पठान

इस रिपोर्ट में बताया गया कि लॉकडाउन के चलते अब उनके पास खाने तक के पैसे नहीं है। वह इस बंद के कारण फुटपाथ पर भी बैठ कर अपना काम नहीं कर पा रहे हैं। भास्करन ( को भी आम गरीब लोगों की तरह अपना परिवार चलाने के लिए मुश्किल आ रही है। भास्करन (Bhaskaran) की इस स्टोरी ने इरफान पठान का ध्यान खींचा और उन्होंने आर्थिक मदद का हाथ बढ़ाया।

इरफान ने की 25 हजार रुपये की मदद

जब इरफान पठान (Irfan Pathan) को उनके बारे में पता चला तो उन्होंने तुरन्त मदद के लिए अपना हाथ बढ़ा दिया। उन्होंने भास्करन को 25 हजार रुपये की मदद की। यह जानकारी उसी वेबसाइट ने आधिकारिक ट्विटर पर पोस्ट की। इरफान ने इससे पहले भी कोरोना और लॉकडाउन के कारण परेशान कई जरूरतमंदों की मदद की थी। उन्होंने कई हजार मास्क भी फ्री में बांटे हैं ।

सचिन और धोनी से मिल चुके हैं भास्करन…

रिपोर्ट में भास्करन के हवाले से लिखा गया है कि भास्करन ने दिग्गज खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) के पैड भी ठीक किए थे। उन्होंने कहा, ‘उनके (सचिन) पैड काफी अलग थे। वे आजकल के सिंथैटिक पैड की तरह नहीं थे। जब मैंने उनके पैड ठीक किए तो उन्होंने मेरे परिवार के लिए आईपीएल टिकट दिलाए। बाद में मुलाकात भी की।’

इसके साथ भास्करन ने धोनी से तमिल में बात भी की है। रिपोर्ट में लिखा है “मैंने महेंद्र सिंह धोनी को 2005 से देखा है, जब वह पहली बार चेपॉक आए थे। बाद में उन्होंने मेरे साथ चाय भी पी। वह मुझसे कहते कि मैं उनसे तमिल में बात करूं। वह खुद भी कोशिश करते हैं कि इस भाषा को बोल सकें। वह मुझे ‘माछी’ बुलाते हैं, जिसका मतलब भाई होता है। हम दोस्त की तरह बात करते हैं।”

Hindi Cricket News, Dream 11 Prediction और मैच रिजल्ट्स की खबरों के लिए CRICKHABARI के टेलीग्राम चैनल को ज्वॉइन करें। हमें फेसबुकट्विटर, Pinterest, और इंस्टाग्राम पर फॉलो करें और हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *