कोई नहीं बन सकता दूसरा सचिन तेंदुलकर या सुनील गावस्कर – जावेद मियांदाद

By | 09/06/2020

क्रिकेट की दुनिया में एक से बढ़कर एक खिलाड़ी हुए हैं। अक्सर हम खिलाड़ियों को एक दूसरे से बढ़कर या एक दूसरे के बराबर भी बताते हैं। जैसे विराट कोहली (Virat Kohli) को आज के दौर का सचिन कहा जाता है, वैसे ही सचिन (Sachin Tendulkar) को उनके दौर का गावस्कर (Sunil Gavaskar) कहा जाता था। ऐसा कहना कितना सही है इस मामले में पाकिस्तान के पूर्व खिलाड़ी जावेद मियांदाद (Javed Miandad) ने अपनी बात रखी है।

पाकिस्तान के दिग्गज खिलाड़ी जावेद मियांदाद का मानना है कि “अलग-अलग पीढ़ी के खिलाड़ियों की आपस में तुलना करना सार्थक सिद्ध नहीं होता। उन सभी खिलाड़ियों की अपनी एक क्लास है। उनके अपने तरीके हैं और वह एक दूसरे से काफी मायनों में अलग हैं। आप कोई दूसरा सुनील या दूसरा सचिन नहीं बना सकते हैं या किसी को नहीं कह सकते कि यह उनके जैसा है। हां आप किसी को अपना आइडल जरूर मान सकते हैं।”

दरअसल हाल ही के यूट्यूब वीडियो में पाकिस्तान के खिलाड़ी आमिर सोहेल (Aamer Sohail)  ने कहा था कि “विराट कोहली टीम इंडिया के लिए उसी तरह कार्य करते हैं जैसे पाकिस्तान के लिए जावेद मियां किया करते थे। अपनी टीम के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन के लिए हमेशा हमेशा साथियों को मोटिवेट करते हैं और उनकी क्षमता बढ़ाने का प्रयास करते हैं।”

इसी वीडियो के जवाब में जावेद ने कहा है‌ कि “”दो अलग-अलग जनरेशन के खिलाड़ियों की तुलना करना ठीक नहीं है क्योंकि वह वास्तव में एक ऐसे दौर में खेले जब रन बनाना इतना आसान नहीं था।”

मियांदाद के क्रिकेट करियर को देखा जाए तो उन्होंने 124 टेस्ट मैच और 233 वनडे खेले हैं। अपने अनुभव के आधार पर उनका कहना है कि उन्होंने ऐसे खिलाड़ियों की गेंदों का सामना किया है जो तेज गेंद वाली पिच पर भी खूंखार धीमी गेंद फेंकते थे। रिचर्ड हडली (Richard Hadlee) , डेनिस लिली (Dennis Lillee) जैसे गेंदबाजों के समय में रन बनाना बहुत मुश्किल काम था।

विराट कोहली (Virat Kohli)  , जो रूट (Joe Root), केन विलियमसन (Kane Willimson) आदि खिलाड़ियों के नाम लेते हुए जावेद का यही कहना था कि हम किसी को एक दूसरे से बेहतर नहीं बता सकते क्योंकि सभी अपनी स्थितियां, परिस्थितियां और चुनौतियों के आधार पर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन दे रहे हैं।

“खिलाड़ी जगह अपनी छाप छोड़ जाता है तब उसको सदियों तक याद रखा जाता है। गावस्कर और सचिन उन्हीं खिलाड़ियों में से हैं।कोई भी खिलाड़ी महान तब बनता है जब वह अपनी गलतियों से सीखता है। आप अपनी सारी पारियों में शतक नहीं लगा सकते। इस मामले में विराट कोहली अनुकरणीय है।” इन बातों के साथ जावेद ने सभी खिलाड़ियों को एक नई सीख दी है।

Hindi Cricket News, Dream 11 Prediction और मैच रिजल्ट्स की खबरों के लिए CRICKHABARI के टेलीग्राम चैनल को ज्वॉइन करें। हमेंफेसबुकट्विटर, Pinterest, और इंस्टाग्रामपर फॉलो करें और हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *