चारदिवसीय टेस्ट पर अभी कुछ कहना होगा जल्दबाजी: सौरव गांगुली

BCCI अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) ने साल 2023 के बाद वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के मैचों को चार दिवसीय करने के लिए अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (ICC) के प्रस्ताव पर कुछ भी टिप्पणी करने को जल्दबाजी कहा।

ईडन गार्डन्स पर चार दिवसीय टेस्ट होने के बारे में उन्होंने कहा, “सबसे पहले हमें प्रस्ताव देखना होगा, इसे आने दीजिए और इसके बाद हम देखेंगे। अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। बिना सोचे समझे टिप्पणी नहीं कर सकते।”

आईसीसी की क्रिकेट समिति साल 2023 से 2031 सत्र तक वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के मैचों को पाँच दिवसीय के बजाय चार दिवसीय करने पर औपचारिक विचार-विमर्श करेगी। हालांकि गांगुली (Sourav Ganguly) ने क्रिकेट सलाहकार समिति के गठन पर कोई जानकारी नहीं दी।

चार दिवसीय टेस्ट इसलिए भी जरूरी है क्योंकि कई देश खुद BCCI की भी अधिक से अधिक द्विपक्षीय सीरीज खेलने की मांग है। इसके अलावा अधिक से अधिक विश्वस्तरीय टूर्नामेंटों का आयोजन भी कराए जाने के लिए भी आईसीसी सोच रहा है। चारदिवसीय टेस्ट के फॉर्मेट में कुछ भी नहीं बदलेगा।

चारदिवसीय टेस्ट कोई नया नहीं है। साल 2017 में ज़िम्बाब्वे और दक्षिण अफ्रीका तथा साल 2019 के शुरुआत में इंग्लैंड और आयरलैंड के बीच चारदिवसीय मैच खेला जा चुका है। इसके अलावा सभी फर्स्ट क्लास मैच चारदिवसीय ही होते हैं।

Hindi Cricket NewsIPL 2020 News in HindiU19 World Cup NewsDream 11 Prediction और मैच रिजल्ट्स की प्रमुख खबरों के लिए हमारे साथ जुड़े रहें। हमें फेसबुकट्विटर और इंस्टाग्राम पर फॉलो करें एवं हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

Category: Latest Cricket News Tags: ,

About नीतिश कुमार मिश्र

नीतिश कुमार मिश्र (Neetish Kumar Mishra) CRICKHABARI.COM के फाउंडर हैं। वे साल 2016 से खेल पत्रकारिता की दुनिया में सक्रिय हैं और अब तक एक हजार से अधिक खबरें लिख चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *