Wednesday, December 2, 2020

सौरव गांगुली ने उठाया धोनी के इंटरनेशनल खिलाड़ी बनने के राज से पर्दा

Must Read

LPL 2020: सुपर ओवर में कोलंबो किंग्स ने कैंडी टस्कर्स को हराया

लंका प्रीमियर लीग 2020 के पहले मैच में कोलंबो किंग्स ने कैंडी टस्कर्स को सुपर ओवर में हराया।

“रोहित और ईशांत शर्मा ऑस्ट्रेलिया दौरे पर नहीं जाएंगे, यह अफवाह है”- BCCI

BCCI के सूत्र ने बताया कि रोहित शर्मा और ईशांत शर्मा ऑस्ट्रेलिया दौरे पर नहीं जाएंगे, यह अफवाह फैलाया जा रहा है।

बर्थडे स्पेशल: झूलन गोस्वामी के ऐसे तथ्य जिसे कम लोग ही जानते होंगे

झुलन गोस्वामी के जन्मदिन पर जानिए उनके बारे में कुछ ऐसे तथ्य जिसे कम लोग ही जानते होंगे।
CRICKHABARI HINDIhttps://www.crickhabari.com
Crickhabari is the official administrator of this Website.

महेंद्र सिंह धोनी क्रिकेट का वो नाम है जिसे भुला पाना नामुमकिन है। उनकी समझदारी और खेल की नीति के सभी कायल है। लेकिन क्या आप जानते है कि धोनी को एक इंटरनेशनल खिलाड़ी बनाने में मौजूदा बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली ने बहुत अहम भूमिका निभाई है।

साल 2004 में जब धोनी ने अपने करियर की शुरुआत की थी उस वक्त सौरव गांगुली टीम के कप्तान थे। उन्हीं की कप्तानी में धोनी इंटरनेशनल क्रिकेट का डेब्यू मैच खेला था। लेकिन उस मैच में धोनी कुछ खास रन नहीं बना पाए। कुछ मैचों के बाद टीम के कप्तान गांगुली ने एक बड़ा फैसला लेते हुए उनकी बैटिंग पॉजिशन बदली और साल 2005 में हुए पाकिस्तान के खिलाफ मैच में धोनी को तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने का मौका दिया। उस वक्त धोनी भी गांगुली के भरोसे पर खरे उतरे और  मैच में 148 रनों की शानदार पारी खेली।

वहीं अब इतने सालों के बाद अब  गांगुली ने इस राज से पर्दा उठाया है कि आखिर क्यों उन्होंने धोनी को बैटिंग ऑर्डर में ऊपर भेजा था। सौरव गांगुली ने सचिन तेंदुलकर का नाम लेते हुआ कहा कि अगर सचिन हमेशा ही नंबर 6 पर बल्लेबाजी करते रहते तो शायद वो इतने महान खिलाड़ी कभी नहीं बन पाते। इसीलिए उन्होंने धोनी नंबर 3 पर बल्लेबाजी करने का दिया और धोनी ने उस मैच में शतक भी बनाया। इतना ही नहीं गांगुली ने ये भी बताया कि जब भी धोनी को ज़्यादा ओवर खेलने का मौका दिया गया, तब उन्होंने बड़ा स्कोर ही बनाया है। अगर तेंदुलकर नंबर 6 पर बल्लेबाजी करते रहते तो तेंदुलकर नहीं बनते, क्योंकि आपको खेलने के लिए मुट्ठी भर गेंदें मिलती हैं।”

गांगुली ने धोनी की तारीफ करते हुए आगे बताया कि, वो जानते थे कि धोनी में बहुत काबिलियत है और धोनी की तरह आराम से छक्के मारने की काबिलियत बहुत कम खिलाड़ियों में देखने को मिलती है। इसलिए मैंने ये फैसला लिया था। हालांकि धोनी ने इस मैच से पहले भी चैलेंजर ट्रॉफी में शतक लगा चुके थे। गांगुली की माने तो , एक खिलाड़ी अच्छा तभी बन सकता है जब उसे ऊपरी क्रम में बल्लेबाजी करने का मौका मिले। तुम किसी को निचले क्रम में खिलाकर बड़ा खिलाड़ी नहीं बना सकते हो।

आपको बता दें कि धोनी ने 15 अगस्त को इंटरनैशनल क्रिकेट से संन्यास ले लिया है। इस बात की जानकारी खुद धोनी ने ही अपने इंस्टाग्राम पोस्ट के जरिए दी थी। धोनी ने  अपने पसंदीदा गाने को शेयर करते हुए कहा कि शाम सात बजकर 29 मिनट से मुझे रिटायर्ड समझिए।

- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -

Latest News

LPL 2020: सुपर ओवर में कोलंबो किंग्स ने कैंडी टस्कर्स को हराया

लंका प्रीमियर लीग 2020 के पहले मैच में कोलंबो किंग्स ने कैंडी टस्कर्स को सुपर ओवर में हराया।

“रोहित और ईशांत शर्मा ऑस्ट्रेलिया दौरे पर नहीं जाएंगे, यह अफवाह है”- BCCI

BCCI के सूत्र ने बताया कि रोहित शर्मा और ईशांत शर्मा ऑस्ट्रेलिया दौरे पर नहीं जाएंगे, यह अफवाह फैलाया जा रहा है।

बर्थडे स्पेशल: झूलन गोस्वामी के ऐसे तथ्य जिसे कम लोग ही जानते होंगे

झुलन गोस्वामी के जन्मदिन पर जानिए उनके बारे में कुछ ऐसे तथ्य जिसे कम लोग ही जानते होंगे।

पाकिस्तान ने पहले आधिकारिक क्रिकेट दौरे के लिए अफगानिस्तान क्रिकेट टीम को किया आमंत्रित

पाकिस्तान ने अफगानिस्तान के राष्ट्रीय क्रिकेट टीम को पहली बार मान्यता प्राप्त दौरे पर आमंत्रित किया है।

डेविड वॉर्नर का बयान विल पुकोव्स्की को कर सकता है हतोत्साहित: माइकल क्लार्क

माइकल क्लार्क ने कहा है कि डेविड वॉर्नर चयनकर्ता नहीं हैं और उनके शब्द विल पुकोवस्की को हतोत्साहित कर सकते हैं।
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -