13 मार्च: भारतीय क्रिकेट इतिहास का सबसे बुरा दिन

13 मार्च भारतीय क्रिकेट इतिहास के लिए सबसे बुरा दिन है। 13 मार्च 1996 में कोलकाता के ईडन गार्डन्स स्टेडियम में भारत और श्रीलंका के बीच विश्व कप का सेमीफाइनल मुकाबला खेला गया था।

इस दिन भारतीय क्रिकेट फैंस अपने टीम के बुरे प्रदर्शन को सहन नही कर सके और वो किया जिसकी किसी को उम्मीद नही थी। 

दिन था 13 मार्च 1996 का, भारत और श्रीलंका के बीच विश्व कप का सेमीफाइनल मुकाबला खेला जा रहा था। भारत के कप्तान मो. अजहरुद्दीन ने टॉस जीतकर पहले फील्डिंग करने का फैसला किया। श्रीलंका ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवरों में 251 रन का स्कोर खड़ा किया।

लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम 1 विकेट के नुकसान पर 98 रन बनाकर मजबूत स्थिति में थी। क्रीज पर सचिन तेंदुलकर (65) और संजय मांजरेकर टिके थे। उसके बाद सचिन 65 रन बनाकर आउट हो गए। फिर श्रीलंकाई स्पिनरों के आगे भारतीय बल्लेबाजो ने घुटने टेक दिए। भारत  स्कोर 8 विकेट पर 120 हो गया। 

इसके बाद अपने टीम का इतना बुरा प्रदर्शन देख भारतीय क्रिकेट फैंस आग बबूला हो गए। मैदान पर विपक्षी खिलाड़ियों पर बोतल फेंकने लगे और आगजनी करने लगे। इसके बाद अंपायरों ने बिना मैच खेलाए श्रीलंका को विजेता घोषित कर दिया। इस प्रकार श्रीलंका पहली बार विश्व कप फाइनल में पहुंची।

Category: Latest Cricket News Tags:

About दीनदयाल मौर्य

दीनदयाल मौर्य (Deendayal Maurya) CRICKHABARI.COM के मुख्य संपादक के रूप में कार्यरत हैं। वे साल 2017 से खेल पत्रकारिता की दुनिया में सक्रिय हैं। उन्हें क्रिकेट मैचों का विश्लेषण करने का अच्छा अनुभव है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *